What Is Fssai? | Full Form Of Fssai | Fssai क्या है? FSSAI की पूरी जानकारी हिंदी में

What Is Fssai Or Full Form Of Fssai - Fssai क्या है और Full Form Of Fssai ?


Full Form Of Fssai : Food Safety and Standard Authorities Of India होती है । 
हिंदी में Full Form Of Fssaiभारत के खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण होती है। 

FSSAI यह भारत सरकार के एक स्वास्थ एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत एक स्वराज्य के अंतर्गत एक संस्था में आता है. इसकी स्थापना सन् 2006 में भारतीय Food Safety and Standards Act के अंतर्गत सुरक्षा एवं विनयमन के लिए किया गया था । 

FSSAI का कार्य लोगों की स्वास्थ्य की सुरक्षा और उसे बेहतर बनाने का है और यह वो विनियमन एवं पर्यवेक्षण के माध्यम से करती है .

 FSSAI का कार्य खाद्य पदार्थो सामग्री का उत्पादन करने वाली इकाइयो और उद्योगों  पर नियंत्रण एवं निगरानी एवं उस पर देख-रखाई करने की है. इसलिए जब भी किसी उद्यमी एवं उद्योगों  द्वारा खानपान का किसी प्रकार प्रकार का कोई भी व्यापार किया जाता है तो उसे FSSAI से पहले उस व्यापार की जांच करवानी पड़ती है तथा उस व्यापार के लिए FSSAI से एक लाइसेंस भी लेनी पड़ती है.

Full Form Of FSSAI -  Food Safety and Standard Authorities Of India होती है और यह Food Safety and Standard Authorities Of India Act 2006 के अंतर्गत आती है और इसका उद्देश्य खाद्य सुरक्षा एवं मानकों की दृष्टि से आवश्यक सभी मामलो के लिए किसी एक संगठन की स्थापना करने का है. 

FSSAI का मुख्य लक्ष्य खाद्य के विभिन्न स्तरो के विभिन्न विभागो के खाद्य सुरक्षा एवं मानको के कार्य को किसी एक संगठन का निर्माण करके उसको पूर्ण रूप से सौंप देने का था तथा उस पर विभिन्न विभागों से निगरानी रखने का था और इसलिए भारत सरकार ने सन् 5 सितंबर 2008 को भारत के खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण की स्थापना की. FSSAI की स्थापना इसलिए भी की गई थी ताकि खाद्य सम्बन्धी मामलो के लिए एक ही संगठन हो और खाद्य का निर्माण करने वाले निर्माण कर्ताओ व्यपारियो और निवेशको एवं ग्राहको को किसी प्रकार की समस्या एवं दिक्कतों का सामना ना करना पड़े. 

भारत सरकार के द्वारा FSSAI का मुख्य कार्यालय भारत की राजधानी दिल्ली में स्थापित किया गया . 


भारतीय खाघ सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण के मुख्य कार्य - How Does FSSAI Works Or What Are The Main Functions Or Works Of FSSAI ? 


भारत सरकार के द्वारा FSSAI की स्थापना नीचे दी गई निम्न मुख्य कार्य के लिए की गई थी . 

1. विभिन्न खाघ उद्योगों को प्रशिक्षण देना ( To Give Training To Different Food Industries Or Businesses ) :- 

FSSAI यह समय पर विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षकों को आयोजित करते हैं जिसमें की जिनका Food Business , है वह शामिल हो सकते हैं एवं जो Food Business खोलना चाहते हैं वह भी शामिल हो सकते हैं अौर सभी प्रकार के जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं . इन शिक्षकों के द्वारा जिन्हें जो भी समस्या है वह उसका समाधान भी FSSAI से पुछ सकते हैं . 

2. दिशा निर्देश करना ( To Setting The Right Guidelines ) :- 

FSSAI - का सबसे महत्वपूर्ण काम या है कि, खाद पदार्थों से संबंधित जितनी भी दिशानिर्देशों को भारत सरकार द्वारा बनाया गया है उनका विभिन्न आज उद्योगों का सही तरीके से पालन किया जा रहा है या नहीं, इस पर देखरेख करना है . 


3. विभिन्न खाद्य उद्योग को प्रमाण देना ( To provide The Certification To Different Food Industries ) 
FSSAI का मुख्य कार्य्य यह है कि यह खाघ व्यवसााायियो के द्वारा बनाए जाने वाले खाने की सही तरीके से जांच करे और यह सुनिश्चित करे कि वह खाना खाने लायक है या नहीं और यह भी सुनिश्चित करना कि वह खाना सेेहत के लिए सही है या नहीं . 


अगर खाने जांच के दौरान FSSAI को किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं दिखाई देती है तभी FSSAI उन्हें FOOD CERTIFICATE देती है. 

4. नेटवर्क की स्थापना करना ( To Establish The Network ) :- 
FSSAI का एक महत्वपूर्ण कार्य यह भी है कि वह पूरे देश भर में एक नेटवर्क की स्थापना करे ताकि जिन्हें भी खाघ उद्योगों के बारे में कोई भी जानकारी प्राप्त करना चाहे तो उन्हें किसी भी प्रकार की समस्या का सामना ना करना पड़े. 


FSSAI की और भी बहुत सारे काम रहते हैं और उन्हें वो अच्छी तरह से पालन एवं उस पर निगरानी भी रखती है ताकि लोगों को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना ना करना पड़े. 


fssai, fssai registration, full form, fssai license, fssai logo, food and safety, fssai full form, be full form, food safety, fassai, www.fssai.gov.in, fssai.gov.in, it full form, www full form, fssai kerala, food safety and standards authority of india, fssai logo png, fssai exam date, fssai notification 2019

Post a comment

0 Comments