Best Holi Shayari



॥ केसरिया बालम लगा, हँस गोरी के अंग ॥
॥ गोरी तो केसर हुई, साँवरिया बेरंग ॥





॥ काश ऐसा गुलाल हो जाए ॥
॥ रूह तक लाल-लाल हो जाए ॥
॥ तुझमेँ देखुं तो राधिका देखूं ॥
॥ और मुझमेँ गोपाल हो जाए ॥





॥ होली के दिन तू मुझे मिलना ज़रूर ऐ ज़िन्दगी ॥
॥ तुझे खुशियो के रंगो से रँगने की ख्वाहिश है ॥





॥ धूप की आग से फूलों के बदन रौशन हैं ॥
॥ सात  रंगों में  तेरा दर्द  सजाता  है  मुझे ॥




॥ "देखो ये रंग छूट ही नहीं रहा,
कहा था पानी मिलाना
प्यार मिला दिया ना" ॥




॥ इन रंगो से भी सुन्दर हो ज़िन्दगी आपकी 
॥ हमेशा महकती रहे यही दुआ हैं हमारी 
॥ कभी न बिगड़ पाए ये रिश्तो के प्यार की होली
॥ ए-मेरे यार आप सबको मुबारक हो ये होली 




॥  कुछ रंग बिखरे हैं अल्फाज़ो में 
॥ कुछ रंग उड़ रहे एहसासो में 
॥ हर रंग आज छू कर तुम्हे 
॥ घुल के समां रहे हैं मेरी सांसों में 




॥ “दूरियाँ दिल की मिटें, हर कहीं अनुराग हो 
॥ न द्वेष हो, न राग हो, ऐसा यहाँ पर फाग हो 




॥ रंगों की ना होती कोई जात 
॥ वो तो लाते बस खुशियों की सौगात 
॥ हाथ से हाथ मिलाते चलो 
॥ होली है होली रंग लगाते चलो 
॥ हैप्पी होली 




॥ पिचकारी की आई बाज़ारों में बौछार 
॥ हर कोई मांगे अनोखी पिचकारी हर बार 
॥ बच्चों को होता त्यौहारों से प्यार 
॥ वही तो बनाते त्यौहारों को गुलज़ार 




 ॥ दिलो के मिलने का मौसम है 
॥ दूरियां मिटाने का मौसम है 
॥ होली का त्यौहार ही ऐसा है 
॥ रंगो में डूब जाने का मौसम है 




॥ होली के रंग मस्त बिखरेंगे 
॥ क्योंकि पीया के संग अब हम भी तो भीगेंगे 
॥ होली में इस बार और भी रंग होंगे 
॥ क्योंकि मेरे पीया मेरे संग होंगे 




॥ गुझिया की महक आने से पहले 
॥ रंगों में रंगने से पहले 
॥ होली के नशे में डूबने से पहले 
॥ हम आपसे कहते है 
॥ हैप्पी होली सबसे पहले 




॥ खा के गुजिया पीके भंग 
॥ लगा के थोड़ा थोड़ा सा रंग 
॥ बजा के ढोलक और मृदंग 
॥ खेले होली हम तेरे संग 




॥ होली पर बरस रहा रंग बिरंगा रंग 
॥ आपके घर में भी चले खुशियों की बहार 
॥ मंगलमय हो यह होली का त्यौहार 


॥गुलाल चहरे पर लगे ऐसे 
॥ जैसे खुशियों के रंग 
॥ आप को होली की ढेरों शुभकामनाये ॥




॥ रीत चले, संगीत चले 
॥ होली के गीत चले 
॥ आओ सब मिलकर मनाएं होली 
॥ हैप्पी होली 

Post a Comment

0 Comments